Dr K K Goyal's Classical Homeopathy

http://cancertb.com/images/hindi.jpg

 A comparison in Homeopathic and allopathic treatment of CKD

क्रोनिक गुर्दे या किडनी फ़ेल एक जानलेवा बीमारी होती है। जिससे शरीर में पैदा होने वाले अपशिष्ट पदार्थ जैसे यूरिया, किरयेटिनिन (in the form of urine) collected in the body which leads to multiorgan failure.
इस बीमारी का अंग्रेज़ी चिकित्सा में ३ तरह से इलाज किया जाता है।
1) Symptomatic medicines लक्षणातमक यानि एक लक्षण की एक दवा साथ ही कुछ दवायें हाई ब्लड प्रेसर , डायबिटीज़ एवं कुछ अन्य समस्याओं को नियंत्रित करने के लिये to control the causative disease such as Diabetes mellitus, hypertension, etc.
2) डायलिसिस ख़ून या पानी वाली (Haemodialysis or Peritoneal dialysis depending on the doctors decision)
3) Kidney transplantation गुर्दा प्रत्यारोपण
These are not the curative procedure यानि अंग्रेज़ी चिकित्सा में बीमार हो चुके गुर्देा को ठीक करने का कोई भी इलाज नहीं है यहाँ बस रोगी को जैसे-तैसे ज़िन्दा रखने की कोशिश करते रहना पड़ता है।  
But homeopathic treatment stimulates someone’s immune system to perform normal functions – this way damaged kidneys start functioning normally.
 
Which type of kidney patients should take Homeopathic treatment? 
1. Healthy persons who have strong family history of renal failure should take classical homeopathic treatment to avoid the risk of renal failure.
2. Diabetic patients who are suffering from Hypertension also must take homeopathic treatment.
3. Persons who are having symptoms of early renal failure of unknown etiology.
4. Patients suffering from recurrent Stone formation or having stone lodged somewhere in the ureter.
5. Kidney patients of any stage should start homeopathic treatment earliest possible for avoiding passing into the complete renal damage.
6. Patients who are undergoing for Stem Cell Therapy or have been taken it should not wait  for its uncertain results and should start homeopathy earliest possible.
7. Patients who are taking some urine forming medicines such as Lasix, Dytor etc. should start homeopathic treatment otherwise their kidneys will have to suffer badly.
8. Patients who are on dialysis can get rid off the frequent dialysis by taking classical homeopathic treatment.
9. Patients who are waiting for renal transplantation should start homeopathic treatment which can stop the urgent need of kidney donor.
It’s mean to say that nothing is too late for classical homeopathic treatment; every patient should start it as soon as they come to know about benefits of homeopathy.

कृपया ध्यान दें: शरीर में पानी की कमी गुर्दे की बीमारी के सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक है।
- व्यक्ति यदि उचित मात्रा में तरल पदार्थ का उपयोग नहीं कर रहा है तो डाइयुरेटिक्स (डयटोर, लसिक्ष आदि) शरीर में और अधिक पानी की कमी करके गुर्दे के कार्य में सुधार नहीं कर सकते हैं
- डाइयुरेटिक्स बस शरीर में संचित हो रहे पानी के अधिभार से दिल की अस्थायी रक्षा करते हैं.
- असल में एलोपैथिक प्रणाली गुर्दे की बीमारी के पहले चरण में भी किसी भी प्रकार के सुधार की उमीद नहीं करती है. They think that ultimately patient has to go for dialysis or kidney transplantation later or sooner, so, they least bother about further damage of kidney tissue. 

यहाँ एक और महत्वपूर्ण बात की ओर आपका ध्यान आकर्षित करता हूँ:
हमारे 99% जीवन कार्य प्रोटीन द्वारा किए जाते हैं। क्या प्रोटीन का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है? जैसा कि आप जानते इसके सेवन को गुर्दे की बीमारी के रोगियों के ज्यादातर मामलों में कुछ डॉक्टरों द्वारा प्रतिबंधित किया जा रहा है।
- क्या प्रोटीन का और सेवन नेफ्रॉन को नुकसान पहुंचा सकता है? या
- क्या इसका प्रतिबंध किडनी रोग की प्रक्रिया को धीमा कर सकता हैं? या
- क्या आपने कभी भी प्रोटीन के सेवन को गुर्दे की बीमारी का जिम्मेदार सुना है?
इन सब सवालों का जवाब - नहीं में है।
facebookEkaterina Yosifova  Dr. Goyal is a doctor you can rely on. He always offers accurate support and professional advise. And thus just in few hours, even on non-working days!He is so far alway from our country, and at the same time so close to us! Thank you for all your efforts within the last years, Dr. Goyal and keep helping those in need!

Contact Details: You can consult us in Delhi/NCR also but only with prior appointment.
Dr Nupur Goyal
Flat no. 111, Oriental Insurance Apartments
Plot C 58/26, Sector 62
Near Fortis Hospital, Noida

Address of Main Clinic
26, Shyam Nagar, near Maruti Residency (green colour multi-story building)
Shahganj-Bodla Road, Agra

Contact No : +915622275443, +91-9927408608, +91-7500528288

Email: goyaldrkk@gmail.com